प्रेगनेंसी में चने खाने के फायदे | Pregnancy Me Chane Khane Ke Fayde

 Pregnancy Me Chane Khane Ke Fayde
IN THIS ARTICLE

प्रेगनेंसी में मूड बदलने के साथ-साथ खाने का मिजाज भी बदलता है। कभी तीखा, कभी मीठा, कभी खट्टा तो कभी चटपटा खाने का मन करता है। ऐसे में दुविधा बनी रहती है कि ऐसा क्या खाया जाए जो पौष्टिक भी हो और जिसे खाने में आनंद भी आए। अगर आप भी ऐसी उलझन में हैं, तो हम इस लेख के जरिए इसे दूर करने की कोशिश करेंगे। गर्भावस्था के दौरान स्वाद और पोषण बनाए रखने के लिए आप चने/छोले को अपने आहार में शामिल कर सकती हैं। मॉमजंक्शन के इस लेख में हम आपको प्रेगनेंसी में चना खाना चाहिए या नहीं इस बारे में तो आपको जानकारी देंगे ही, साथ ही गर्भावस्था में चने खाने के फायदे भी आपको बताएंगे।

सबसे पहले लेख के इस भाग में जानते हैं कि गर्भावस्था में चना खाना चाहिए या नहीं।

क्या गर्भवती महिलाएं चने खा सकती हैं? | Pregnancy Me Chana Khana Chahiye

हां, गर्भावस्था के दौरान आयरन युक्त खाद्य पदार्थ काफी फायदेमंद होते हैं। ऐसे में गर्भवती आयरन युक्त चने का सेवन एक पौष्टिक आहार के रूप में कर सकती हैं (1) (2) (3)। इसमें सिर्फ आयरन ही नहीं, बल्कि कई अन्य पौष्टिक तत्व जैसे – प्रोटीन, कैल्शियम, फोलेट भी मौजूद होते हैं (4)। हालांकि, इसका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए, ताकि गर्भवती पर इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव न पड़े।

लेख के आगे के भाग में जानिए कि चने में कौन-कौन से पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं, जो इसे लाभदायक बनाते हैं।

चने के पोषक तत्व

यहां हम टेबल के जरिए चने में मौजूद पौष्टिक तत्वों के बारे में बता रहे हैं (4) :

पोषक तत्व प्रति 100 ग्राम
पानी  60.21 ग्राम
एनर्जी 164 केसीएल
प्रोटीन 8.86 ग्राम
टोटल लिपिड (फैट) 2.59 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट 27.42 ग्राम
फाइबर, टोटल डायटरी 7.6 ग्राम
शुगर 4.80 ग्राम
मिनरल
कैल्शियम 49 मिलीग्राम
आयरन 2.89 मिलीग्राम
मैग्नीशियम 48 मिलीग्राम
फास्फोरस 168 मिलीग्राम
पोटैशियम  291 मिलीग्राम
सोडियम 7 मिलीग्राम
जिंक 1.53 मिलीग्राम
विटामिन
विटामिन सी 1.3 मिलीग्राम
थियामिन 0.116 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन  0.063 मिलीग्राम
नियासिन 0.526 मिलीग्राम
विटामिन बी-6  0.139 मिलीग्राम
फोलेट, डीएफई  172 माइक्रोग्राम
विटामिन बी-12 0.00 माइक्रोग्राम
विटामिन ए, आरएई 1 माइक्रोग्राम
विटामिन ए, आईयू 27आईयू
विटामिन ई 0.35 मिलीग्राम
विटामिन डी (डी 2 + डी3) 0.0 माइक्रोग्राम
विटामिन डी 0 आईयू
विटामिन के 4.0 माइक्रोग्राम
लिपिड
फैटी एसिड, टोटल सैचुरेटेड  0.269 ग्राम
फैटी एसिड, टोटल मोनोअनसैचुरेटेड  0.583 ग्राम
फैटी एसिड, टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड 1.156 ग्राम
फैटी एसिड, टोटल ट्रांस  0.000 ग्राम
कोलेस्ट्रोल 0 मिलीग्राम
अन्य
कैफीन 0 मिलीग्राम

लेख के आगे के भाग में जानेंगे प्रेगनेंसी में चना खाने के फायदे।

गर्भावस्था में चने के स्वास्थ्य लाभ | Pregnancy Me Chane Khane Ke Fayde

ऊपर आपने जाना कि चना पौष्टिक तत्वों से भरपूर है। अब बारी आती है यह जानने की कि इन पौष्टिक तत्वों से आपको क्या-क्या लाभ मिल सकते हैं। तो नीचे जानिए चना से होने वाले फायदों के बारे में।

  1. शिशु में जन्मदोष से बचाव – जैसा कि लगभग हर कोई जानता है कि फोलेट गर्भावस्था के लिए आवश्यक पोषक तत्व है। यह बच्चे के विकास में मदद करता है और न्यूरल ट्यूब दोष (Neural Tube Defects) जैसे शिशु जन्मदोष को रोकने में मदद कर सकता है। चने को फोलेट का प्राकृतिक स्रोत माना गया है, इसलिए इसे आहार में शामिल किया जाना चाहिए (5)
  1. जेस्टेशनल डायबिटीज से बचाव – कई महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान मधुमेह का खतरा होता है। ऐसे में गर्भावस्था के दौरान ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखने और जेस्टेशनल डायबिटीज से बचाव के लिए आप आहार में अधिक फाइबर की मात्रा शामिल कर सकती हैं (6)। इसके लिए आप छोले का सेवन कर सकती हैं, क्योंकि इसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर मौजूद होता है (7)
  1. दमा से बचाव – अगर गर्भवती महिला खुद को और होने वाले शिशु को दमा जैसी बीमारी से बचाना चाहती है, तो फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन शुरू कर सकती हैं (8)। छोले के सेवन से अस्थमा जैसी सांस की बीमारियों से बचाव हो सकता है, क्योंकि इसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर मौजूद होता है (4)
  1. कब्ज से बचाव – गर्भावस्था के दौरान कब्ज की समस्या भी बहुत आम है। ऐसे में अधिक फाइबर के सेवन से कब्ज की परेशानी से राहत मिल सकती है। इसके लिए आप छोले को अपने आहार में शामिल कर सकती हैं, लेकिन ध्यान रहे कि आप संतुलित मात्रा में इसका सेवन करें (9)
  1. खून की कमी से बचाव – गर्भवती के लिए आयरन आवश्यक होता है। आयरन की कमी से कई समस्याएं जैसे – कमजोरी, सिरदर्द और वजन में कमी हो सकती है। इन सबके अलावा सबसे ज्यादा खतरा खून की कमी यानी एनीमिया होने का अंदेशा रहता है (10)। गर्भावस्था में एनीमिया से बचाव के लिए आप छोले का सेवन कर सकते हैं, क्योंकि इसमें आयरन मौजूद होता है, जो गर्भावस्था में लाभकारी हो सकता है (11) (4)

आगे जानते हैं जरूरत से ज्यादा चने के सेवन से होने वाले नुकसान के बारे में।

चने से होने वाले दुष्प्रभाव

हर सामग्री के लाभ और नुकसान दोनों होते हैं। अगर अच्छी से अच्छी चीज का भी ज्यादा सेवन किया जाए, तो उसका नुकसान हो सकता है। वैसे ही अगर चने का अत्यधिक सेवन किया जाए, तो हानि हो सकती है। नीचे जानिए चने से होने वाले अनुमानित दुष्प्रभाव –

  1. पेट की समस्या – जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि चने में फाइबर मौजूद होता है, जो गर्भावस्था के दौरान कब्ज की समस्या से राहत दिला सकता है। अगर फाइबर का ज्यादा सेवन हो जाए, तो यह गैस, पेट फूलना या पेट में दर्द की परेशानी का कारण बन सकता है (12)
  1. एलर्जी – अगर आपको फलियों से एलर्जी की समस्या है, तो चने के सेवन से पहले अपने डॉक्टर से एक बार बात करें। इससे आपको एलर्जी की समस्या हो सकती है।

अब लेख के आगे के भाग में हम आपको इसे आसानी से आहार में शामिल करने के कुछ टिप्स बताएंगे।

गर्भावस्था के दौरान आहार में चने को शामिल करने के तरीके

  • आप हल्के मसाले डालकर छोले की सब्जी बनाकर खा सकती हैं।
  • आप उबले हुए छोलों में बारीक कटा हुआ खीरा, प्याज, टमाटर और हरी मिर्च मिलाकर चाट बनाकर खा सकती हैं।
  • आप चाहे तो चने को उबालकर फिर उसे हल्के मसालों के साथ भूनकर भी खा सकती हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या प्रेगनेंसी मे अंकुरित चने खा सकते हैं? | Pregnancy Me Ankurit Chana Khana Chahiye

हां, आप अंकुरित चने का सेवन सीमित मात्रा में कर सकती हैं। ध्यान रहे कि अंकुरित चने का सेवन उबाल कर ही करें, क्योंकि कच्चे अंकुरित आहार में बैक्टीरिया मौजूद हो सकते हैं, जो प्रेगनेंसी में कई शारीरिक समस्याओं का कारण बन सकते हैं (13)

क्या प्रेगनेंसी मे भूने चने खा सकते हैं? | Pregnancy Me Bhuna Chana Khana Chahiye

हां, आप सीमित मात्रा में भूने चने खा सकती हैं। आप इसे शाम के वक्त स्नैक्स के तौर पर खा सकती हैं। ध्यान रहे कि आप इसका सेवन जरूरत से ज्यादा न करें।

इस लेख में प्रेगनेंसी में चने खाने के फायदे जानने के बाद आप इसे सीमित मात्रा में अपने आहार में जरूर शामिल करें। अगर इसे सही और सीमित तरीके से खाया जाए, तो यह गर्भावस्था के दौरान अच्छा स्नैक्स साबित हो सकता है। आप इसे अपने आहार में शामिल करें और हमारे साथ अपने अनुभव शेयर करें। इतना ही नहीं अगर आपको भी अपने अनुभव के आधार पर प्रेगनेंसी में चने खाने के फायदे पता हैं, तो हमें जरूर बताएं। साथ ही अगर आपके मन में लेख से जुड़ा कोई सवाल है, तो कमेंट बॉक्स के जरिए हमसे पूछ सकते हैं।

संदर्भ (References) :

Was this information helpful?
The following two tabs change content below.

Latest posts by arpita biswas (see all)

arpita biswas